Saturday, May 8, 2010

सख्त राहों में भी आसान सफ़र लगता है , ये मेरी माँ की दुवाओं का असर लगता है....


एक मुद्दत से मेरी माँ सोई नहीं..
मैने जो एक बार कहा था,,, माँ मुझे डर लगता है!!!
माँ मुझे डर लगता है......
आज पूरा विश्व माँ की ममता का नमन कर रहा है , जन्मदात्री के उपकारों को याद कर रहा है, लेकिन दिल के किसी कोने में एक सवाल रह रह कर गूंज रहा है?
दरअसल बात उस वक़्त की है जब मैं कवरेज के दौरान वृद्धाश्रम आया जाया करता था . जहाँ ममता को आधुनिकता की बलिवेदी पर लटकता देख दिल खून के आंसू रोता रहता .. वहां उन माओं की स्तिथि देखकर हैरान था जिन्होंने कभी अपने कलेजे के टुकड़े को सहेजकर पाला , उसे इस लायक बनाया की इस दुनिया में कंधे से कन्धा मिलकर चल सके. पर आज ये क्या होने लगा माँ को कंधे का सहारा चाहिए तब उसे ठुकरा दिया गया . क्या हम आधुनिकता के दौड़ में इतने अंधे हो गए है ......? क्या एक माँ की सिसकियाँ हमें सुनाई नहीं दे रही है .......?
अब बात मैं उस ज़माने की कर रहा हूँ जब मैं पैदा भी नहीं हुआ था , जब फॅमिली प्लानिंग की बात इतनी प्रचलित नहीं थी . तब किसी घर में एक से दो साल के अंतर में बच्चे हुआ करते थे ऐसे में स्तनपान के लिए किसी और महिला का सहारा लिया जाता था, अमूमन ऐसी महिलाएं आसपास या फिर घर में काम करने वाली होती थी जिसके पहले से ही बच्चा होता था, लेकिन आज भले ही खुद की माँ को बच्चे भूल गए हों माँ की ममता बिना स्वार्थ के , बिना भेदभाव के दोनों बच्चे को अपने छाती से लगा लेती थी। इस बीच एक ऐसा रिश्ता कायम हो जाया करता था की बच्चे ताउम्र  दो माँ का रिश्ता निभाते रहते। एक वो जिसने जन्म दिया और एक वो जिसने अपनी छाती से लगाया और इस रिश्ते की डोर इतनी प्रगाढ़ थी कि दो परिवार पीढ़ी डर पीढ़ी एस रिश्ते को निभाते चले आ रहे है। ये सब बाते आज मेरे इसलिए आ रही है क्योंकि ऐसे परिवारों को अपने आसपास देखा है ..महसूस किया उनकी भावनाओं को। 
खैर ! ये तो रही बीते ज़माने कि बात ..आज तो खुद कि माँ पराई हो गई है . बदलते दौर के साथ हम क्यों भूल जाते है कि माँ आज भी बच्चे को जन्म देती है , आज भी दूध पिलाती है और आज भी अपने कलेजे के टुकड़े को जीवन के उस मुकाम तक ले जाती है जहाँ से वो अपने पैर पर चल सके ....बदला है तो सिर्फ माँ के प्रति बच्चों का नजरिया जिसका परिणाम है आज तिल तिल कर जीती माएं ...जिन्हें वृद्धाश्रम का सहारा है .. पहली बार जब मैं आश्रम कि चौखट पर गया तो मुझे लगा कि वाकई ये लोग खुश हैं .. लेकिन..... जब बात निकली तो ....दिल है .....और दिल रोता भी है .....यहाँ जाने पर मुझे महसूस हुआ कि वाकई दुनिया कितनी बदल चुकी है ..दूध का क़र्ज़ , ममता का क़र्ज़ ये महज शब्द ही रह गए है ..वो शब्द जिसके मर्म को कोई समझना ही नहीं चाहता ..
हम भूल गए ..... कल जब हम छोटे थे और कोई हमारी बात नहीं समझ पाता था, तो सिर्फ एक ही थी जो हमारे टूटे फूटे लब्ज़ समझ जाया करती थी ..हमारी ख़ुशी भी ..और हमारी तकलीफें ....वो शख्स कोई नहीं माँ ही
है .... मगर आज जब माँ के उपकारों से इस काबिल हो गए हैं कि अपने कंधों पर कईयों का बोझ उठा पायें तो हम अपने माँ से कहने लगे .......
आप नहीं जानते ,
आप नहीं समझ पायेंगे ,
आपकी बाते मुझे समझ में नहीं आती ..
यही बातें अगर हमने बचपन में सुनी होती तो बोलना तो दूर हम चल भी नहीं पाते .
बहरहाल कहने के लिए तो बहुत है लेकिन आज के दिन जितना जरूरी समझा कह दिया ....माँ की ममता का बखान मैं नहीं कर सकता ..हाँ ...एक टीस मन में है जिसे जाहिर कर दिया ...
क्योंकि------------
माँ जब भी रोती थी जब बेटा खाना नहीं खाता था

और माँ आज भी रोती है जब बेटा खाना नहीं देता

16 comments:

  1. very nice i appreciate....your feelings

    ReplyDelete
  2. maa ki bavnay our mamta me ble koi fark na aay ho le kin unke bahari shurup me kafi koch bablau aachuka hae jo unki jivan saeli ki jarurat bi hae

    ReplyDelete
  3. kya bat hai yar
    happy mothers day


    i am ritedh
    ritesh tikariha

    ReplyDelete
  4. shandar friend...
    No one can compare with mother..
    Love mother and motherland.

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्छे ओपी,आज बस इतना ही कह सकते हैं की मां तुझे सलाम्।

    ReplyDelete
  6. हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
    कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देनें का कष्ट करें

    ReplyDelete
  7. आपका छत्‍तीसगढ हिन्‍दी ब्‍लागर्स चौपाल में स्‍वागत है

    छत्‍तीसगढ ब्‍लॉगर्स चौपाल
    आरंभ

    ReplyDelete
  8. चिट्ठाजगत में आपका स्वागत है। सार्थक एवं सफल ब्लॉगिंग के लिए शुभकामनाएं...
    कृपया दूसरे ब्लॉग भी देखें और प्रतिक्रिया दें...

    ReplyDelete
  9. यार चंद्राकर जी, अपने तो आंसू निकलवा दिए।
    अच्छा लगा आपको पढ़कर।
    मेरी शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  10. बहुत अच्छी प्रस्तुति...
    http://rituondnet.blogspot.com/

    ReplyDelete
  11. bahut badhiya mere bhai.......
    isi tarah ki lekhani ki aaj humaare samaaj ko zaroorat hai......
    jo logon ke dimaag me bhi kranti kaari parivartan laaye....
    warna aaj kal toh log blog ka upyog dusaron par kichad uchhalne ke liye kar rahe......

    ReplyDelete
  12. हिन्दी ब्लॉगजगत के स्नेही परिवार में इस नये ब्लॉग का और आपका मैं ई-गुरु राजीव हार्दिक स्वागत करता हूँ.

    मेरी इच्छा है कि आपका यह ब्लॉग सफलता की नई-नई ऊँचाइयों को छुए. यह ब्लॉग प्रेरणादायी और लोकप्रिय बने.

    यदि कोई सहायता चाहिए तो खुलकर पूछें यहाँ सभी आपकी सहायता के लिए तैयार हैं.

    शुभकामनाएं !


    "टेक टब" - ( आओ सीखें ब्लॉग बनाना, सजाना और ब्लॉग से कमाना )

    ReplyDelete
  13. आपका लेख पढ़कर हम और अन्य ब्लॉगर्स बार-बार तारीफ़ करना चाहेंगे पर ये वर्ड वेरिफिकेशन (Word Verification) बीच में दीवार बन जाता है.
    आप यदि इसे कृपा करके हटा दें, तो हमारे लिए आपकी तारीफ़ करना आसान हो जायेगा.
    इसके लिए आप अपने ब्लॉग के डैशबोर्ड (dashboard) में जाएँ, फ़िर settings, फ़िर comments, फ़िर { Show word verification for comments? } नीचे से तीसरा प्रश्न है ,
    उसमें 'yes' पर tick है, उसे आप 'no' कर दें और नीचे का लाल बटन 'save settings' क्लिक कर दें. बस काम हो गया.
    आप भी न, एकदम्मे स्मार्ट हो.
    और भी खेल-तमाशे सीखें सिर्फ़ "टेक टब" (Tek Tub) पर.
    यदि फ़िर भी कोई समस्या हो तो यह लेख देखें -


    वर्ड वेरिफिकेशन क्या है और कैसे हटायें ?

    ReplyDelete
  14. zindagi ek swal hai.har swal ka jwab maa hoti hai, maa alfaz me hi duniya ki paribhasha smahit hai mamta ki ras dhara prwahit kar om prakash jee aapne man ko jeet liya aap sadhuwad ke patr hai... aap likhte rahiye hum u hi padhate rahe......

    ReplyDelete
  15. www.goswamijournalist.blogspot.com ब्लॉग पढ़े और अपनी बहुमूल्य टिप्पणिया पोस्ट करे

    ReplyDelete